जगन्नाथ रथ यात्रा 2023: तिथि और समय, नेत्र उत्सव का महत्व और रथ यात्रा कार्यक्रम को जानें

Earning Baka
0


भारतीय साहित्य और संस्कृति में धार्मिक और पौराणिक कथाएं एक महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं। इनमें से एक मशहूर कथा है "जगन्नाथ रथ यात्रा"। यह यात्रा भारतीय राज्य ओडिशा के पुरी नगर में सनातन धर्म का एक महत्वपूर्ण उत्सव है। इस लेख में, हम जगन्नाथ रथ यात्रा 2023 के बारे में बात करेंगे, जिसमें इसकी तिथि और समय, नेत्र उत्सव का महत्व और रथ यात्रा कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी जाएगी।


जगन्नाथ रथ यात्रा 2023: तिथि और समय

जगन्नाथ रथ यात्रा 2023 का आयोजन अग्रिम निश्चित तिथि पर होगा। यह वार्षिक उत्सव हर साल असाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को मनाया जाता है। जगन्नाथ रथ यात्रा 2023 की तिथि और समय के बारे में विवरण निम्नलिखित हैं:

  • तिथि: 12 जुलाई 2023, बुधवार
  • समय: प्रात: 8 बजे से शुरू होगी

नेत्र उत्सव का महत्व

नेत्र उत्सव, जगन्नाथ रथ यात्रा के उत्सव के पूर्व आयोजित होता है। इस उत्सव में भगवान जगन्नाथ के मूर्ति के आगे पंडाल स्थापित किया जाता है और उन्हें विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। इस अवसर पर भक्तों को दर्शन का विशेष अवसर मिलता है और वे अपनी मनोकामनाएं मांगते हैं। नेत्र उत्सव 2023 का आयोजन निम्नलिखित विवरण में किया जाएगा:
  • तिथि: 11 जुलाई 2023, मंगलवार
  • समय: रात्रि 10 बजे से 12 बजे तक

जगन्नाथ रथ यात्रा कार्यक्रम

जगन्नाथ रथ यात्रा का कार्यक्रम विभाजित होता है और इसमें विभिन्न प्रमुख घटनाएं शामिल होती हैं। यहां हम जगन्नाथ रथ यात्रा कार्यक्रम के विवरण को देखेंगे:

1. स्नान यात्रा

यात्रा का पहला दिन स्नान यात्रा के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियों को पुरी नगर के मैन रोड पर स्थापित किया जाता है। मूर्तियों को पूजा के बाद गंगा जल से स्नान किया जाता है और फिर मंदिर में लौटाया जाता है।

2. रथ यात्रा

रथ यात्रा जगन्नाथ रथ यात्रा का मुख्य आकर्षण है। इस यात्रा में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियां विशेष रथों में स्थापित की जाती हैं और उन्हें मंदिर से गुंडीचा मंदिर ले जाया जाता है। इस यात्रा के दौरान भक्तजन रथ को धक्के मारकर आगे बढ़ाते हैं और भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

3. अरबाध यात्रा

रथ यात्रा के बाद, भगवान जगन्नाथ को गुंडीचा मंदिर में निवासित किया जाता है। यहां उन्हें खाने की विशेष भोग, पूजा, और आरती की जाती है। इस दौरान अरबाध यात्रा निकाली जाती है, जिसमें भक्तजन दिनभर मंदिर के आसपास परिक्रमा करते रहते हैं।


जगन्नाथ रथ यात्रा 2023 एक महत्वपूर्ण उत्सव है जो संप्रभु भगवान जगन्नाथ की गर्व से भरी यात्रा है। इस यात्रा में हजारों भक्त भाग लेते हैं और उन्हें धार्मिक और आध्यात्मिक उन्नति का अनुभव मिलता है। जगन्नाथ रथ यात्रा एक ऐसा उत्सव है जो ओडिशा की संस्कृति और धार्मिकता का प्रतीक है।


प्रश्नों के उत्तर

प्रश्न 1: जगन्नाथ रथ यात्रा 2023 की तारीख क्या है?
उत्तर: जगन्नाथ रथ यात्रा 2023 की तारीख 12 जुलाई 2023 है।

प्रश्न 2: नेत्र उत्सव कब मनाया जाएगा?
उत्तर: नेत्र उत्सव 11 जुलाई 2023 को मनाया जाएगा।

प्रश्न 3: रथ यात्रा में कौन-कौन सी मूर्तियां स्थापित की जाती हैं?
उत्तर: रथ यात्रा में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र, और सुभद्रा की मूर्तियां स्थापित की जाती हैं।

प्रश्न 4: रथ यात्रा का कार्यक्रम क्या है?
उत्तर: रथ यात्रा के कार्यक्रम में स्नान यात्रा, रथ यात्रा, और अरबाध यात्रा शामिल हैं।

प्रश्न 5: जगन्नाथ रथ यात्रा का महत्व क्या है?
उत्तर: जगन्नाथ रथ यात्रा भगवान जगन्नाथ की प्रतिष्ठा और उनके भक्तों के आस्था का प्रतीक है। इस यात्रा में भाग लेने से भक्तजन को आध्यात्मिक और मानसिक शांति का अनुभव होता है।


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)